featured

कौन है पामेला गोस्वामी, जिसकी एक गलती से बंगाल में बीजेपी बैकफुट पर आ गई

पामेला गोस्वामी

पश्चिम बंगाल: पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जोर-शोर से जुटी भारतीय जनता पार्टी को उस वक्त झटका लगा, जब पार्टी का युवा चेहरा और प्रदेश की राजनीति में एक जाना-पहचाना नाम पामेला गोस्वामी को 100 ग्राम कोकीन के साथ कोलकाता में गिरफ्तार किया गया। पामेला गोस्वामी की गिरफ्तारी की खबर फैलते ही पश्चिम बंगाल की राजनीति में हलचल मच गई। शुक्रवार को पामेला अपनी कार में अपने एक दोस्त प्रबीर कुमार डे के साथ कहीं जा रहीं थी, तभी पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने जब पामेला को पकड़ा तो उनके साथ केंद्र से मिली सिक्योरिटी के जवान भी थे। आइए जानते हैं कि कौन हैं पामेला गोस्वामी?

बंगाली टेलीविजन में एक्ट्रेस के तौर पर किया काम राजनीति में कदम रखने से पहले पामेला गोस्वामी मॉडलिंग करती थीं। वो एयर होस्टेस रह चुकी हैं और उन्होंने बंगाली टेलीविजन में भी एक्ट्रेस के तौर पर काम किया है। सूत्रों का कहना है कि पामेला अक्सर एक विशेष जगह पर ठहरती थीं और पुलिस काफी दिन से उनके ऊपर नजर रख रही थी। शुक्रवार को पुलिस को सूचना मिली कि पामेला गोस्वामी और उनके दोस्त कोकीन साथ लेकर कार से कहीं जा रहे हैं, जिसके बाद पुलिस ने घेरेबंदी कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया। पुलिस को तलाशी में उनके बैग और कार की सीट से कोकीन मिली।

मध्य प्रदेश कांग्रेस ने भी पामेला की गिरफ्तारी पर बीजेपी के ऊपर निशाना साधा है। एमपी कांग्रेस के ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया, ‘बीजेपी नेता ड्रग्स के साथ गिरफ्तार, पश्चिम बंगाल युवा मोर्चे की सचिव हैं पामेला। पश्चिम बंगाल में बीजेपीकी युवा इकाई की नेता पामेला गोस्वामी और प्रवीर डे को 100 ग्राम कोकेन के साथ गिरफ्तार किया गया है। चाल, चरित्र और चेहरा एक साथ बेनकाब..? बीजेपी हटाओ, भारत बचाओ।’

कांग्रेस नेता उदित राज ने तंज कसते हुए ट्वीट किया, ‘बीजेपी यूथ विंग की नेत्री पामेला गोस्वामी 100 ग्राम कोकेन के साथ कोलकाता में गिरफ्तार। ‘मुझे ड्रग दो’, ‘मुझे ड्रग दो’ वाले भाई साहब कहां हैं? इसपर कब शो करेंगे? पूछता है भारत।’

हालांकि गिरफ्तारी के बाद पामेला गोस्वामी ने खुद को निर्दोष बताया। पामेला ने कहा कि पुलिस ने उन्हें झूठे केस में फंसाया है। वहीं, प्रदेश भाजपा प्रवक्ता समिक भट्टाचार्य ने पामेला की गिरफ्तारी पर कहा, ‘प्रदेश में चुनाव आचार संहिता लागू होने वाली है और पुलिस अभी भी ममता बनर्जी सरकार के अधीन है। इसलिए, कुछ भी हो सकता है। हमें यह भी देखने की जरूरत है कि कहीं कोकीन के पैकेट पामेला के बैग और गाड़ी में रखे तो नहीं गए थे।’

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top