featured

ऐसा क्या हुआ कि सुब्रमण्यम स्वामी ने पीएम मोदी की तुलना सद्दाम हुसैन और गद्दाफी से कर दिया

बीजेपी के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने पीएम नरेंद्र मोदी से अपील की है कि उन्हें खुद पहल करके स्टेडियम से अपना नाम हटवाना चाहिए। एमपी का कहना है कि जीवित रहते बस सद्दाम और गद्दाफी ने ही अपने नाम पर स्टेडियम का नाम रखवाया था। स्वामी का कहना है कि मोदी को खुद ही मांग करनी चाहिए कि स्टेडियम से उनका नाम हटाकर सरकार पटेल का नाम बहाल हो।

नए नामकरण के बाद से ही सरकार आलोचना झेल रही है, लेकिन गुजरात सरकार ने इस पर अपना पक्ष रखते हुए कहा है कि सरदार पटेल के नाम स्पोर्ट्स एन्क्लेव बन रहा है। इस एन्क्लेव के अंतर्गत ही स्टेडियम होगा, जो उसका एक हिस्सा है। स्पोर्ट्स एन्क्लेव में फुटबॉल, हॉकी समेत तमाम खेलों के लिए व्यवस्था की जाएगी। सरकार का यह बयान विपक्ष के उन आरोपों के बाद आया था, जिनमें कहा गया था कि सरकार ने सरदार पटेल की जगह पर मोदी के नाम से स्टेडियम बनाया है और यह देश के पहले गृहमंत्री का अपमान है। अब भाजपा सांसद सुब्रमण्यन स्वामी ने भी इशारों में तंज कसा है।

बीजेपी सांसद ने अपने ट्वीट में इसके लिए एक रास्ता भी सुझाया। उनका कहना है कि गुजरात सरकार को चाहिए कि वह एक घोषणा करे। इसमें बताया जाए कि स्टेडियम के नामकरण को लेकर पीएम मोदी से सलाह नहीं की गई थी। इसलिए उनका नाम हटाकर सरदार पटेल का नाम फिर से बहाल किया जा रहा है। उनका कहना है कि सरकार के लिए इस तरह की कवायद फेस सेविंग जैसी होगी।

स्वामी बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य भी हैं। अपने तेवरों से अक्सर राजनीतिक गलियारों में हलचल पैदा करने वाले 81 वर्षीय नेता अभी बीजेपी की सांस उखाड़ने में लगे हैं। इससे पहले भी वह कई ट्वीट करके अपनी पार्टी पर निशाना साध चुके हैं। चाहें बात नेपाल में सस्ता तेल मिलने की हो या फिर चीन के साथ सीमा पर चल रही बातचीत। स्वामी कई बार मोदी सरकार को कटघरे में खड़ा कर चुके हैं। उनके तेवर लगातार बागी हो रहे हैं।

बता दें कि सुब्रमण्यन स्वामी बीते कई सालों से भाजपा नेतृत्व से नाराज चल रहे हैं। भले ही वह खुलकर अपनी राय नहीं रखते हैं, लेकिन इशारों में वह अकसर तंज कसते रहते हैं। किसान आंदोलन को लेकर भी उन्होंने सरकार से उलट अपनी राय जाहिर की थी। नरेंद्र मोदी स्टेडियम के उद्घाटन के मौके पर होम मिनिस्टर अमित शाह ने नामकरण को लेकर कहा था कि यह पीएम नरेंद्र मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट रहा है। ऐसे में इसका नाम उन पर ही रखा गया है। वह जब सूबे के सीएम थे, तब ही उन्होंने इसके बारे में प्लान बनाया था और अब जाकर वह साकार हुआ है।

ये भी पढ़ें-शरद पवार का दावा, पाँच में से इन चार राज्यों में चुनाव हार जाएगी बीजेपी

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top