Politics

सीमा विवाद को लेकर मिजोरम और असम में हुई हिंसा

मिज़ोरम के कोलासिब और असम के हैलाकांडी ज़िले में बीते नौ फरवरी की रात हुई झड़प में कई लोग घायल हो गए पिछले साल अक्टूबर-नवंबर में भी असम के कछार ज़िले और मिज़ोरम के कोलासिब ज़िले के लोगों के बीच हिंसक झड़प हुई थी, जिसके बाद सीमा पर तब कई दिन तक तनाव रहा था।
हैलाकांडी/आइजोल: असम-मिजोरम सीमा पर विवादित क्षेत्र में दोनों राज्यों के लोगों के बीच हुई झड़पों में कई लोग घायल हो गए। अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी।

मिजोरम-असम सीमा के साथ कोलासिब जिले (मिजोरम) में जोफई क्षेत्र (कचूरथोल क्षेत्र) में दोनों पड़ोसी राज्यों के निवासियों के बीच झड़प में मिजोरम के कुछ लोग और असम के कुछ लोग घायल हो गए हैं।
इस बीच क्षेत्र के विधायक सुजामुद्दीन लश्कर ने मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल और पुलिस महानिदेशक भास्कर ज्योति महंत को पत्र लिखकर आग्रह किया है कि पड़ोसी राज्य से सशस्त्र हमले के चलते सीमा पर रह रहे लोगों के मन में सुरक्षा की भावना पैदा करने के लिए तत्काल कदम उठाए जाएं।

मिजोरम के मुख्यमंत्री जोरमथांगा घारमौरा में मिजोस पर हमले की निंदा की। उन्होंने बुधवार को मिजो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) विधानमंडल दल की बैठक में घारमौरा में उपद्रवियों द्वारा मिजो समुदाय के लोगों पर किए गए हमले को कायरतापूर्ण बताया।

बता दें कि पिछले साल अक्टूबर-नवंबर में भी असम-मिजोरम सीमा पर तब कई दिन तक तनाव रहा था, जब असम के कछार जिले और मिजोरम के कोलासिब जिले के लोगों के बीच हिंसक झड़प हुई थी, जिसमें कई लोग घायल हो गए थे तथा कई कच्चे मकान जला दिए गए थे।
मिजोरम और असम के बीच 164.6 किलोमीटर लंबी सीमा है. सीमा विवाद को सुलझाने के लिए 1995 से कई दौर की वार्ता हो चुकी है, लेकिन इसका कोई ठोस परिणाम नहीं निकला है।

ये भी पढ़े –राम मंदिर निर्माण के लिए मुस्लिमों से चंदा लेगी आरएसएस, लखनऊ से अभियान की शुरुआत

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top