Elections

यूपी पंचायत चुनाव के नतीजे बीजेपी के लिए खतरे की घंटी, सपा को मिल गया ऑक्सीजन

उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव में सपा सबसे जयादा सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है। वहीं इसे चुनाव को सेमीफ़ाइनल के रूप में भी देखा जा रहा था। ऐसे में माना जा रहा है कि भारतीय जनता पार्टी के लिए एक खतरे की घंटी बज गई है। कोरोना महामारी के मौजूदा संकट से जूझ रही केंद्र सरकार और राज्य सरकार के लिए अगले साल विधानसभा चुनावों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है।

इस राजनीतिक गतिविधियों से अवगत लोगों के अनुसार, सरकार ने अब विधायकों और सांसदों से कहा है कि वे सोशल मीडिया पर किसी भी “आत्म-प्रचार” से पहले ऑक्सीजन प्लांट्स, अस्पताल के बेड बढ़ाने और दवाओं की खरीद को बढ़ाने के लिए कोशिश करें।
फीडबैक मिलने के बाद पार्टी के नेता क्षेत्र के साथ-साथ सोशल मीडिया प्लेटफार्मों से भी गायब हैं।

एक केंद्रीय नेता ने कहा, “लोगों में ऐसी धारणा है कि भाजपा पश्चिम बंगाल हिंसा पर ध्यान दे रही है, लेकिन कोई भी इसमें दिलचस्पी नहीं ले रहा है। लोग महामारी से चिंतित हैं जिसने लगभग सभी को प्रभावित किया है। जबकि सरकार लोगों की मदद करने के लिए कदम उठा रही है, लोकिव मंत्री, सांसद और विधायक लोगों की मदद करते हुए और सहानुभूति जताते हुए नहीं दिखा रहे हैं।” उन्होंने कहा, ”जनप्रतिनिधियों को आगाह किया गया है कि छवि और धारणा को बदलने से पहले, उन्हें किए गए कार्य का प्रमाण देना होगा।”

जागरण लेकसिटी यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर, संदीप शास्त्री और लोकनीति नेटवर्क के राष्ट्रीय समन्वयक ने कहा कि 2019 के आम चुनावों के बाद से भाजपा सरकार के प्रदर्शन में तेजी से गिरावट आई है। आगामी चुनावों पर सरकार की प्रतिक्रिया के प्रभाव पर, उन्होंने कहा, “स्थानीय निकाय चुनाव विशेष रूप से स्थानीय विशिष्टताओं का परिणाम हैं। लेकिन पंचायत चुनाव के रुझान दर्शाते हैं कि मतदाताओं में निराशा है।”

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WHATS HOT

Most Popular

To Top