Bihar

इस मंत्री ने तेजस्वी को बोला खानदान तक मत जाइए, हिम्मत है तो गाँधी मैदान में फरिया लीजिए

बिहार में शराब बरामदगी के मामले में राजनीति गरम है। मंत्री रामसूरत राय ने दस्तावेज जारी करते हुए स्पष्ट किया है कि जिस स्कूल परिसर से शराब जब्त की गई वह उनके हिस्से में नहीं है बावजूद इसके विपक्ष हर तरफ से घेरने की कोशिश कर रहा है। बिहार विधानसभा में बहस इतनी तीखी हुई कि एक बार फिर हाथापाई की नौबत आ गई। हालांकि जुबानी वार पर ही मसला शांत हुआ। मंत्री ने कहा कि विपक्ष उनका चरित्र हनन करने की कोशिश कर रहा है और इसकी भरपाई करनी पड़ेगी। वहीं राजद के विधायक वेल तक पहुंच गए और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ भी नारेबाजी करने लगे।

मंत्री रामसूरत राय ने कहा, ‘अगर बैठकर सुनने की ताकत है तो सुनें नहीं तो गांधी मैदान में फरिया लेंगे। अगर इनके (तेजस्वी) के पटना में रिश्तेदार हैं तो हमारे भी 100 रिश्तेदार हैं।’ उनकी बात सुनते ही आरजेडी नेता वेल तक पहुंच गए। विधानसभा में बहस के दौरान मंत्री और तेजस्वी यादव में व्यक्तिगत टिप्पणियां भी होने लगीं।

मंत्री रामसूरत राय ने कल सदन में कहा था, ‘आरजेडी के नेता 2010 से मुझपर अनर्गल आरोप लगाते रहे हैं। मैं दूसरी बार सदन आया हूं, लेकिन यहां बैठे आधे लोग मेरे परिवार को जानते हैं। मेरे खानदान पर दाग लगाने वाले व्यक्ति को सोचना चाहिए कि उसका खानदान कैसा है। मैं पूरे खानदान का विषय सदन में रख दूंगा।’

खानदान की बात आते ही आरजेडी नेता हंगामा करने लगे। इस पर मंत्री रामसूरत राय ने कहा, ‘अगर हिम्मत है, तो शांति से बैठिए और अगर नहीं है, तो गांधी मैदान मे मिलिए, वहीं फरिया लेंगे। मैं दावे के साथ कह सकता हूं कि पटना में कोई ऐसा नहीं है, जो मुझे हिला सकता है। मेरे भी यहां सैकड़ों रिश्तेदार हैं। लाखों यादव परिवार मेरे समर्थक हैं।’

तेजस्वी ने मुख्यमंत्री से कि मांग की कि मंत्री के भाई का सीडीआर निकाला जाए और मंत्री का भी सीडीआर निकाला जाए। उन्होंने करा, मुख्यमंत्री खामोश क्यों हैं? सदन में हमको डॉक्यूमेंट नहीं रखने दिया।। आसन को गाइड किया जा रहा है। यह लोकतंत्र की हत्या है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top