Hindi

3 नई कमेटी का गठन कर सोनिया गांधी ने क्या संकेत दिए?

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने विदेश, राष्ट्रीय सुरक्षा और आर्थिक मामलों से जुड़ी नीतियों और मुद्दों पर विचार के लिए तीन समितियों का गठन किया है. इन तीनों समितियों में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह शामिल हैं.

कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल की ओर से जारी बयान के मुताबिक, ये समितियां विदेश, राष्ट्रीय सुरक्षा और आर्थिक मामलों को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष को सूचित करेंगी.

सोनिया गांधी ने किन नेताओं पर जताया भरोसा आर्थिक मामलों की समिति में मनमोहन सिंह के अलावा पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम, वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और दिग्विजय सिंह शामिल हैं. जयराम रमेश इस समिति के संयोजक होंगे. विदेश मामलों की समिति में मनमोहन, आनंद शर्मा, शशि थरूर और सप्तगिरी उलका शामिल हैं. पूर्व विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद इस समिति में संयोजक बनाए गए हैं. राष्ट्रीय सुरक्षा संबंधी समिति में मनमोहन सिंह, राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद, वीरप्पा मोइली और वैथिलिंगम शामिल हैं. पूर्व केंद्रीय मंत्री विंसेट पाला इस समिति के संयोजक होंगे.

इन समितियों के गठन से क्या संकेत मिलते हैं? गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा, वीरप्पा मोइली और शशि थरूर उन 23 नेताओं में शामिल थे, जिन्होंने पार्टी में बदलाव को लेकर अगस्त में सोनिया गांधी को लेटर लिखा था.ऐसे में माना जा रहा है कि गंभीर सवाल उठाने वाले इन 4 नेताओं को समितियों में शामिल कर सोनिया ने संकेत दिए हैं कि वह उनके खिलाफ कोई भावना नहीं रखतीं. इसके अलावा इन समतियों के गठन से यह भी संकेत मिलता है कि पार्टी के पुराने और अनुभवी नेताओं पर सोनिया का भरोसा लगातार बरकरार है.

हालांकि, अंग्रेजी अखबार द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, सोनिया गांधी को लेटर लिखने वाले नेता इस कदम से उत्साहित नहीं हैं. समिति में शामिल किए गए एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि जो मुद्दे उन्होंने उठाए थे, उन पर अभी तक ध्यान नहीं दिया गया है. एक अन्य नेता ने कहा, ”संगठनात्मक मामलों पर ध्यान देने के बजाए, हमें नीतिगत मुद्दों को देखने के लिए कहा जाता है. कांग्रेस अध्यक्ष को इनपुट देने के लिए पार्टी के पास पहले से ही फोरम और इन-हाउस एक्सपर्टाइज है.”

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top