Hindi

Rajasthan Crisis: गहलोत खेमे की मुश्किलें बरकरार, कांग्रेसी विधायक अब जैसलमेर रवाना

राजस्थान में जारी सियासी घमासान के बीच अशोक गहलोत खेमे के विधायक जो जयपुर-दिल्ली राजमार्ग पर स्थित एक होटल में ठहरे हुए हैं, उन्हें शुक्रवार को जैसलमेर शिफ्ट किया जा रहा है। विधायक इससे पहले जयपुर के फेयरमोंट होटल में ठहरे हुए थे। सभी यहां से हवाई अड्डे के लिए रवाना हो गए हैं।

सचिन पायलट और कांग्रेस के 18 अन्य विधायकों द्वारा सरकार के खिलाफ बगावत करने के बाद 13 जुलाई से विधायक फेयरमोंट होटल में ठहरे हुए थे। विधायकों को शिफ्ट करने की वजह नहीं पता चली है। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुरुवार को संकेत दिया कि वह विधानसभा सत्र में विश्वास मत की मांग करेंगे और दावा किया कि विधायकों को पक्ष बदलने के लिए पैसों की पेशकश की जा रही है। उन्होंने कहा कि जिन बागियों ने पैसा स्वीकार नहीं किया है वे पार्टी में लौट सकते हैं।

गहलोत ने खरीद-फरोख्त का लगाया आरोप
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का कहना है कि 14 अगस्त से विधानसभा सत्र की शुरुआत होने की घोषणा के बाद से विधायकों की खरीद-फरोख्त के रेट (दाम) बढ़ गए हैं। इसी वजह से उन्होंने सभी विधायकों को राजधानी जयपुर से 550 किलोमीटर दूर जैसलमेर शिफ्ट करने का फैसला लिया है। उन्होंने पत्रकारों को विधानसभा की व्यापार सलाहकार समिति का जिक्र करते हुए कहा, ‘बहुमत परीक्षण होगा। हम विधानसभा में जाएंगे। बीएसी इसका फैसला लेगी।’गहलोत ने कहा कि पहले पहली किस्त के रूप में 10 करोड़ रुपये और दूसरी के रूप में 15 करोड़ रुपये दिए जा जा रहे थे। अब ये रेट बढ़ गए हैं।

विधायकों के विलय को लेकर गहलोत ने पूछे सवाल
गहलोत ने कहा, ‘भाजपा ने टीडीपी के चार सांसदों को राज्यसभा के अंदर रातों रात मर्जर (विलय) करवा दिया, वो मर्जर तो सही है और राजस्थान में छह विधायक मर्जर कर गए कांग्रेस में वो मर्जर गलत है, तो फिर भाजपा का चाल-चरित्र-चेहरा कहां गया? राज्यसभा में मर्जर हो वो सही है और यहां मर्जर हो वो गलत है?’

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top