Hindi

कानपुर फिरौती कांड पर प्रियंका ने यूपी की कानून व्यवस्था पर उठाए सवाल, कहा- इसी से लगा सकते हैं अंदाजा

यूपी सरकार पर लगातार हमलावर कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका वाड्रा ने कानपुर में युवक का अपहरण कर कानपुर में 30 लाख की फिरौती मामले में फिर घेरा है। इस मामले पर प्रियंका वाड्रा ने फेसबुक पोस्ट की है, जिसमें उन्होंने कहा कि है कि ये उसी कानपुर का मामला है, जहां कुछ दिनों पहले इतनी बड़ी घटना घटी थी। अब आप यूपी की कानून व्यवस्था का अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं। बता दें कि कानपुर के बर्रा के रहने वाले एक पिता के आरोपों ने पुलिस महकमे में खलबली मचा दी है। पिता ने एसएसपी से गुहार लगाई है कि पुलिस ने अपहर्ताओं को 30 लाख की फिरौती दिलवा दी, लेकिन अभी तक उनका बेटा वापस नहीं लौटा है।

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका वाड्रा ने अपहृत युवक की बहन का गुहार लगाते हुए एक वीडियो भी पोस्ट किया है, जिसमें वह कानपुर पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगा रही है। प्रियंका वाड्रा ने इस फेसबुक पोस्ट में लिखा है कि कानपुर में बदमाशों ने एक युवक का अपहरण कर लिया था। अपहरण करने वालों ने परिवार से फिरौती मांगी। परिवार ने मकान और शादी के जेवर बेंचकर 30 लाख रुपए इकट्ठा किए। पुलिस के कहने पर परिजनों ने पैसे से भरा बैग भी अपहरणकर्ताओं के हवाले कर दिया और पुलिस न तो बदमाशों को पकड़ सकी और न ही उनका बेटा छुड़ा सकी। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। ये उसी कानपुर का मामला है जहां कुछ दिनों पहले इतनी बड़ी घटना घटी थी। अब आप यूपी की कानून व्यवस्था का अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं।

बता दें कि कानपुर के बर्रा निवासी चमन सिंह का बेटा संजीत 22 जून से लापता है। उन्होंने बताया कि उनका बेटा संजीत पैथोलॉजी गया था, जिसके बाद वह घर वापस नहीं लौटा। पुलिस से शिकायत करके राहुल पर बेटे के अपहरण का संदेह जताकर मुकदमा दर्ज कराया था। इसके बाद आरोपित फोन पर बेटे को छोड़ने के लिए 30 लाख रुपये की फिरौती की मांग करने लगे। पीड़ित पिता ने आरोप लगाया कि पुलिस के कहने पर उन्होंने घर बेचकर 30 लाख रुपये की फिरौती अपहर्ताओं को दे दी। इसके बाद भी पुलिस अब तक न तो आरोपी को पकड़ पाई है और ना ही उनका बेटा लौटा है।
पिता चमन लाल ने बताया कि पुलिस के कहने पर सोमवार रात को वह टीम के साथ अपहर्ता की बताई जगह गुजैनी हाईवे पर पहुंचे। यहां उन्होंने पुल वाली जगह रेलवे ट्रैक पर तीस लाख रुपये से भरा बैग फेंक दिया। बहन ने भी आरोप लगाया कि पुलिस ने घरवालों से मकान बिकवाकर खुद अपरहरण करने वालों को 30 लाख रुपये भी दिलवा दिया, लेकिन न भाई को बरामद कर सकी और न कोई अपराधी पकड़ में आया।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top