Bhopal

MP उपचुनाव: 21 सीटों पर BJP आगे, मायूस कमलनाथ ने हार स्वीकार कर कहा- कबूल है…

मध्य प्रदेश में उपचुनाव के रुझानों ने पूर्व मुख्यमंत्री और कॉन्ग्रेस नेता कमलनाथ की उम्मीदों को धराशायी कर दिया है क्योंकि भाजपा 21 सीटों पर और कॉन्ग्रेस केवल 6 सीटों पर आगे चल रही है। कॉन्ग्रेस को उपचुनावों में कम से कम 20 सीटें जीतने की उम्मीद थी, लेकिन उपचुनाव के नतीज़े कॉन्ग्रेस के पक्ष में नजर नहीं आ रहे हैं। 12 मंत्रियों सहित कुल 355 उम्मीदवारों ने 3 नवंबर को उपचुनाव लड़े।

मध्य प्रदेश में 28 सीटों पर हुए उपचुनाव में आ रहे रुझानों के बाद ये साफ हो गया है कि अब कॉन्ग्रेस के लिए उम्मीदें समाप्त हैं। 21 सीटों पर बीजेपी को बढ़त मिलती दिख रही है और मांधाता में पहला नतीजा भी बीजेपी के खाते में गया है। दोपहर होते-होते भाजपा को जो बढ़त मिलती देखी जा रही है, उनका नतीजों में तब्दील होना लगभग तय माना जा रहा है।

इस तस्वीर के बाद पूर्व सीएम कमलनाथ ने कहा है कि उन्हें जनादेश स्वीकार्य है। कमलनाथ ने कहा कि लोकतंत्र में जनता का फैसला हमेशा स्वीकार होता है। हालाँकि उनके चेहरे पर मायूसी साफ देखी जा सकती थी। उन्होंने मतदाताओं को धन्यवाद दिया और कहा कि वो इस फैसले का सम्मान करते हैं।

वहीं, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट करके कहा कि राज्य की जनता ने एक बार फिर विकास और जनकल्याण के लिए संकल्पित बीजेपी को मध्य प्रदेश की जिम्मेदारी सौंपने का निर्णय ले लिया है। यह स्पष्ट दिखाई दे रहा है।

मालवा-निमाड़ अंचल में कोरोनाकाल में 3 नवंबर को हुए विधानसभा उपचुनाव की मतगणना मंगलवार (नवंबर 10, 2020) सुबह 8 बजे से जारी है। भाजपा और कॉन्ग्रेस दोनों के लिए ही ये चुनाव महत्वपूर्ण हैं। मांधाता से भाजपा प्रत्याशी नारायण पटेल 21,999 मतों से विजयी हुई। 22 वें राउंड की गणना में नारायण पटेल को 80004 तथा कॉन्ग्रेस के उत्तम पाल सिंह को 58013 और मिले हैं। अभी डाक मतपत्रों की गिनती के परिणाम आना बाकी है।

साँवेर विधानसभा सीट के साथ ही आगर, बदनावर, हाटपीपल्‍या, सुवासरा, मांधाता और नेपानगर सीट के लिए वोटों की गिनती हो रही है। आगर मालवा से कॉन्ग्रेस हाटपीपलिया, नेपानगर, बदनावर व सुवासरा में भाजपा प्रत्याशी आगे चल रहे हैं।

मांधाता उप चुनाव में भाजपा ने परचम लहरा दिया है। इसके साथ ही, भाजपा को घेरने के लिए कॉन्ग्रेस द्वारा बनाई गई रणनीति मैदान में दम तोड़ गई। कॉन्ग्रेस द्वारा चुनाव प्रचार के दौरान भाजपा पर विधायकों की खरीद-फरोख्त और प्रजातंत्र की हत्या जैसे आरोप लगाकर कठघरे में खड़ा करने का प्रयास किया गया था। इससे कॉन्ग्रेस को चुनाव में मतदाताओं का पूरा समर्थन मिलने की उम्मीद थी, लेकिन चुनाव में बिकाऊ-बिकाऊ का मुद्दा धराशायी होने के साथ ही कॉन्ग्रेस प्रत्याशी उत्तमपाल सिंह के हाथों से मांधाता का ताज फिसल गया।

चुनाव आयोग ने मध्य प्रदेश के उपचुनाव के 28 में से 28 सीटों के रुझान जारी कर दिए हैं। बिहार चुनाव के रुझानों के बीच ईवीएम पर सवाल खड़े किए जा रहे हैं। ऐसे में डिप्टी इलेक्शन कमिश्नर सुदीप जैन ने कहा, “वक्त वक्त पर ये साफ किया जाता रहा है कि ईवीएम मज़बूत है और टैम्पर प्रूफ है। सुप्रीम कोर्ट ने एक से ज्यादा बार ईवीएम की प्रमाणिकता को बरकरार रखा। चुनाव आयोग ने भी साल 2017 में ईवीएम चैलेंज का ऑफर दिया था। ईवीएम की प्रमाणिकता बिना किसी संदेह के है और आगे कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया जाएगा।”

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top