featured

पंजाब में नगर निकाय चुनाव की हार से बीजेपी को आंकना गलत

नगर निकाय

पंजाब : पंजाब में रविवार को हुए स्थानीय निकाय चुनावों के लिए मतगणना शुरु हो चुकी है। पिछले साल केंद्र द्वारा पारित कृषि कानूनों को लेकर पूर्व के राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के साथ जाने के बाद एसएडी और भाजपा ने अलग-अलग चुनाव लड़ा।

अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले की अग्नि परीक्षा के तौर पर स्थानीय निकाय चुनाव के लिए आज वोटों की गिनती हो रही है। वोटों की गिनती सुबह 8 बजे से ही जारी है। दरअसल, पंजाब में 14 फरवरी को 117 स्थानीय निकायों पर चुनाव हुए थे, जिसमें से 109 नगरपालिका परिषद और नगर पंचायत हैं, वहीं, 8 नगर निगम शामिल हैं।

किसान आंदोलन के छाया में हुए नगर निकाय चुनाव में कांग्रेस को खूब लाभ होता दिख रहा हैं, जबकि अकाली दल, आम आदमी और भाजपा का नगर निगम हो या नगर पंचायत हर जगह से लगभग सफाया हो गया हैं।

पंजाब में किसान आंदोलन से बीजेपी की हार को जोड़ने का कोई औचित्य ही नहीं बनता हैं। बीजेपी हमेशा से ही पंजाब में कमजोर रही हैं। हालांकि अकाली दल के साथ गठबंधन में रहने से बीजेपी को थोड़ी सी ऑक्सीजन मिल जाती थी। मगर हाल ही में नए कृषि कानून को लेकर दोनों अलग हो गए, जिससे बीजेपी का पंजाब में सांस लेना भी दुर्लभ हो गया।

तो इस मुश्किल घड़ी में बीजेपी के साथ पंजाब में ऐसा होना ही था। इसलिए अकेले नगर निकाय चुनाव से बीजेपी की ताकत को आंकना गलत होगा।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top