Politics

पहले लगाया था भाजपा पर हमले का आरोप, अब डिलीट किया ट्वीट: राकेश टिकैत का पर्दाफ़ास

rakesh tikait

भारतीय किसान यूनियमन (BKU) के प्रवक्ता बीजेपी पर हमले का आरोप लगाया था। हमला 2 अप्रैल को अलवर जिले में हुआ था। उस समय टिकैत हरसौरा में सभा को संबोधित करने जा रहे थे। पथराव में काफिले में शामिल गाड़ियों के शीशे टूट गए थे।

हमले की सूचना मिलने पर दिल्ली-यूपी के गाजीपुर बॉर्डर पर टिकैत के समर्थकों ने नेशनल हाईवे 9 को जाम कर दिया। बाद में पुलिस हस्तक्षेप के बाद ट्रैफिक बहाल हुई थी।

बीजेपी के गुंडों द्वारा जानलेवा हमला किया गया, लोकतंत्र के हत्या की तस्वीरें।”

पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए लिखा, “केजरीवाल से जब मीडिया दूर हो जाती थी वो बेचारा खुद अपने कार्यकर्ता से ही थप्पड़ खाकर मीडिया कवरोज बटोर लेता था टिकैत भी केजरी का ही गुर्गा है मीडिया इसको घास नहीं डाल रही तो कभी ओडिशा तो कभी राजस्थान में अपने ही कार्यकर्ताओं से थप्पड़ खा रहा है।”

राजस्थान के मुख्यमंत्री राकेश टिकैत ने तो अपना ट्वीट डिलीट कर लिया है। अब आपकी बारी है मुख्यमंत्री। एक अन्य यूजर ने अशोक गहलोत के ट्वीट पर लिखा, “बीजेपी के ऊपर इल्जाम लगा रहे हैं।”

एक अन्य यूजर ने लिखा, “जाँच के बाद पता चलेगा कि वो लोग

अलवर में भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत जी के काफिले पर BJP के लोगों द्वारा हमला निंदनीय है,दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। BJP किसान आंदोलन की शुरुआत से ही किसानों के हक़ में संघर्ष करने वालों के प्रति अनर्गल बयानबाजी,अलोकतांत्रिक बर्ताव कर रही है जोकि शर्मनाक है।

— Ashok Gehlot (@ashokgehlot51) April 2, 2021

अमित गौतम नाम के एक यूजर ने लिखा, “उत्तर प्रदेश में कोई घटना घटित हो तो भाजपा जिम्मेदार। अरे भैया जाँच करवाओ। सरकार तुम्हारी है ये चिल्ल पों मत मचाओ।”

बता दें कि दिल्ली की सीमाओं (टीकरी, सिंघू और गाजीपुर) पर किसान चार महीने से अधिक समय से आंदोलन कर रहे हैं। गाजीपुर बॉर्डर के आंदोलन का नेतृत्व टिकैत का कहना है कि जब तक केंद्र सरकार तीन नए कृषि कानूनों को वापस नहीं लेगी तब तक आंदोलन जारी रहेगा।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top