featured

इस युवा नेता की वजह से अब मायावती नहीं बन पाएगी मुख्यमंत्री

मायावती

दलित-बहुजन आंदोलन से उभरी बहुजन समाज पार्टी की ताकत ढलान पर है। पार्टी ज़मीनी और राजनीतिक दोनों स्तर पर कमजोर पड़ती दिख रही है। गौरतलब है कि, अस्सी के दशक में कांशीराम ने ऐसा सियासी प्रयोग किया कि देश की दलित चिंतन को राजनीतिक व्यूह रचना के केंद्र में लाकर खड़ा कर दिया।

समाज के सबसे निचले पायदान पर खड़े दलितों के बीच ऐसी राजनीतिक चेतना की अलख जगी कि बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने उत्तर प्रदेश में मजबूती के साथ दस्तक दी तो मायावती ने एक−दो बार नहीं चार बार मुख्यमंत्री की कुर्सी संभाली। इसके बाद से दलित वोटों पर सिर्फ मायावती का ही एकछत्र राज कायम था, लेकिन उनके जमीन पर न उतरने से दलित राजनीति का भविष्य बसपा से बाहर सिर उठाता नजर आ रहा है।
 
इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि, पश्चिम यूपी में दलित राजनीति का नए चेहरा बनकर उभरे चंद्रशेखर बसपा का विकल्प सूबे में तैयार करने में जुटे हैं। हाल के दिनों में दलित मुद्दों पर चंद्रशेखर जिस तरीके से आंदोलन कर रहे हैं, उसके जरिए दलित समुदाय के बीच अपना राजनीतिक भविष्य की जगह बनाते नजर आ रहे हैं।

दलित युवा नेता चंद्रशेखर आज़ाद पहले से ही उत्तर प्रदेश में दलित-बहुजन आंदोलन के भावी नेता होने का दावा कर रहे हैं। वो बसपा के दलित आधार में सेंध लगाने के लिए जोर लगा रहे हैं। उन्होंने आजाद समाज पार्टी (एएसपी) का गठन कर अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षा का प्रदर्शन किया है। वो दलित समुदाय के सामने ये साबित करने के लिए हर मौके का उपयोग करने की कोशिश कर रहे हैं कि वो उनके अपने नेता हैं जो उनके मुद्दों को जोरदार तरीके से उठा रहे हैं।

आजाद चंद्रशेखर समाज की बढ़ती लोकप्रियता कहि बहुजन समाज पार्टी के लिए मुसीबत न बन जाये ऐसे में बहुजन समाज पार्टी के मुखिया मायावती को इस विषय पर ध्यान केंद्रित करनी चाहिए और समाज में दलितों के प्रति अपनी छबि बनाए रखनी चाहिए-

कई बार ऐसा लगता है कि मायावती दलितों के मुद्दों से दूर जा रही है। जबकि चंद्रशेखर लगातार हर मुद्दे के साथ खड़े रहते हैं। ऐसे में चंद्रशेखर दलितों के बीच काफी लोकप्रिय होते जा रहे हैं। हालांकि मायावती का प्रभाव दलितों के हर वर्ग पर है। ऐसे में चंद्रशेखर को युवा दलितों को ही नहीं बल्कि बुजुर्गों पर भी प्रभाव छोड़ना होगा। चंद्रशेखर के लिए रास्ते आसान नहीं है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top