Hindi

राजस्थान में डोटासरा को मिला ‘ताज’ या ‘कांटों भरा ताज’!

राजस्थान में कांग्रेस पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट ने पार्टी को उस समय संभाला था, जब केवल 21 विधायक थे। उस दौरान कड़ी मेहनत की और उसका नतीजा यह हुआ कि पिछले चुनाव में कांग्रेस सत्ता में आई। हालांकि अब पायलट को प्रदेश अध्यक्ष और उप मुख्यमंत्री के पद से बर्खास्त कर दिया गया है और नए अध्यक्ष बने हैं गोविंद सिंह डोटासरा। इस मुश्किल घड़ी में डोटासरा को पार्टी का अध्यक्ष बनाया गया है तो उन पर बड़ी जिम्मेदारी अब देखी जा सकती है। यदि फ्लोर टेस्ट होता है तो पार्टी प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी और बढ़ जाती है।

सभी विधायकों को एकजुट करना भी आसान नहीं है। ऐसे में यह कहा जा सकता है कि इन विषम परिस्थितियों में कांग्रेस के आला नेतृत्व ने गोविंद सिंह डोटासरा को प्रदेशाध्यक्ष का ताज नहीं, बल्कि कांटो भरा ताज पहनाया है। जिसमें हर एक कदम पर जोखिम है।

खुद कांग्रेस के राष्ट्रीय नेता इस बात को मानते है। कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे का कहना है कि डोटासरा को कांटों भरा ताज मिला है। सरकार बचाने के लिए विधायकों और मुख्यमंत्री ने बहुत मेहनत की है। उन्होने कहा कि महत्वकांक्षा सभी की होती है। लेकिन नैतिक मूल्यों को तलाक पर नहीं रखा जा सकता। उन्होंने सभी सहयोगी दलों का आभार व्यक्त किया है, जो संकट के समय में सरकार के साथ खड़े हैं।

गोविंद सिंह डोटासरा के कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के पद भार ग्रहण के बाद पार्टी के पर्यवेक्षक रणदीप सिंह सुरजेवाला ने सियासी घमासान पर कहा कि खुद घर में विभीषण बन कर अपने ही घर को गिराने वालों को कभी सम्मान प्राप्त नहीं होता। पूर्व केंद्रीय मंत्री अजय माकन ने कहा कि मुझे विश्वास है कि डोटासरा कार्यकर्ताओं को सम्मान प्रदान करें पार्टी की मजबूती के लिए काम करेंगे।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top