Delhi

दिल्ली की नाकारी सरकार – प्रथम अध्याय

modi-kejriwal

दिल्ली: दिल्ली की केजरीवाल सरकार को लगता है की सिर्फ मोदी को गालियां देकर उनका दिल्ली पर कब्जा बरकरार रहेगा तो वो बड़ी गलतफहमी में हैं। दिल्ली में आम आदमी पार्टी का जनाधार दिन ब दिन कम होता जा रहा है। पॉलीट्रिक्स की टीम के ग्राउन्ड सर्वे में लोगों की नाराजगी समझी और 10 जनता के मुद्दों को लेकर आपके सामने है।

1-किसान आंदोलन – दिल्ली परेशान, केजरीवाल की पंजाब राजनीति परवान।

2-प्रदूषण – पंजाब में किसानों द्वारा पराली जलाया जाना – केजरीवाल के लिए मुद्दा नहीं है।

3-आम आदमी पार्टी का विस्तार – पंजाब, उत्तराखंड, हरियाणा, गुजरात , गोवा के चुनाव – दिल्ली अब महत्वपूर्ण नहीं।

4-दिल्ली में शून्य नए रोजगार – दस सालों में एक भी नया रोजगार नहीं।

5- कोई नए औद्योगिक क्षेत्र का विकास नहीं , रोजगार के अवसर नहीं । विकास की कोइन नई योजना नहीं।

6- केजरीवाल सरकार गरीबी बांटती है , गरीबों, दलितों, महिलाओं, अप्रवीसी मजदूरों के लिए कोई योजना नहीं।

7- केंद्र से लगातार टकराव, दिल्ली वालों का लगातार नुकसान – इन्कलावी नहीं विकास करने वाली सरकार चाहिए।

8- केजरीवाल सरकार हिन्दू , मुस्लिम में भेदभाव करती है। मुसलमानों को ज्यादा तवज्जो देती है।

9- दिल्ली के लिए कोई विजन नहीं है। सिर्फ सत्ता के लिए राजनीति करती है ।

10- भ्रस्टाचार के खिलाफ बनी पार्टी भ्रस्टाचार में पूरी तरह लिप्त। अब सत्ता के लिए कुछ भी। काँग्रेस पार्टी बनना चाहती है।

यह दिल्ली का दुर्भाग्य है कि केजरीवाल की सरकार उस पर राज कर रही है. दिल्ली केजरीवाल की राजनैतिक महत्वाकांक्षाओं की भेंट चढ़ गयी है.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top