Delhi

जेएनयू राजद्रोह मामले में अदालत ने लिया संज्ञान, अब क्या होगा कन्हैया कुमार का

kanhaiya kumar

दिल्ली की एक अदालत ने 2016 के राजद्रोह मामले में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ (जेएनयूएसयू) के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार और नौ अन्य के खिलाफ दिल्ली पुलिस द्वारा दायर आरोपपत्र पर संज्ञान लिया और 15 मार्च को उन्हें तलब किया है। अदालत के सूत्रों ने बताया कि मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट (सीएमएम) पंकज शर्मा ने दिल्ली पुलिस को मामले में आरोपियों के खिलाफ मुकदमा चलाने की मंजूरी मिलने के करीब एक साल बाद सोमवार को आरोपपत्र का संज्ञान लिया।

कुमार के अलावा मामले के अन्य आरोपियों में जेएनयू के पूर्व छात्र उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य शामिल हैं। उन पर भारत विरोधी नारे लगाने का आरोप है। मामले में जिन सात अन्य आरोपियों के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया गया है, उनमें कश्मीरी छात्र आकिब हुसैन, मुजीब हुसैन, मुनीब हुसैन, उमर गुल, रईया रसूल, बशीर भट और बशारत शामिल हैं। उनमें से कुछ जेएनयू, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय और जामिया मिल्लिया इस्लामिया के छात्र हैं।

मामले में जिन सात अन्य आरोपियों के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया गया है, उनमें कश्मीरी छात्र आकिब हुसैन, मुजीब हुसैन, मुनीब हुसैन, उमर गुल, रईया रसूल, बशीर भट और बशारत शामिल हैं।

उनमें से कुछ जेएनयू, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय और जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्र हैं। अदालत ने ऑनलाइन सुनवाई के दौरान कहा, ‘दस्तावेजों के साथ आरोपपत्र पर गौर किया गया। अदालत ने आईपीसी की धारा 124 ए , 323 , 465, 471, 143 , 147 , 149 , 120-बी के तहत अपराध का संज्ञान लिया।

27 फरवरी 2020 के आदेश के अनुरूप उपरोक्त अभियुक्तों के खिलाफ मुकदमा चलाने की मंजूरी गृह विभाग ने दे दी है.’ उन्होंने कहा, ‘आरोपपत्र और दस्तावेजों पर ध्यान से गौर करने के बाद, आईपीसी की धारा 124 ए.

ये भी पढ़े – अमित शाह ने तो कह दिया… वैसे कब मिलेगा जम्मू कश्मीर को पूर्ण राज्य का दर्जा

323/465/471/143/147/149/120-बी के तहत सभी उपरोक्त अभियुक्तों को सुनवाई के लिए तलब किया जाता है. आरोपियों को जांच अधिकारी के जरिये 15 मार्च को तलब किया जाता है. सभी पक्षों को इस आदेश की प्रति ईमेल और वॉट्सऐप के जरिये भेजी जाएगी।

आरोपियों पर भारतीय दंड संहिता की धारा 124ए (राजद्रोह), 323 (जानबूझ कर चोट पहुंचाना), 471 (फर्जी कागज या इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड का वास्तविक की तरह इस्तेमाल करना), 143 (अवैध सभा का हिस्सा होना के लिए दंड), 149 (अवैध सभा का हिस्सा होना), 147 (दंगा करना) और 120 बी (आपराधिक साजिश) के तहत आरोप लगाए गए हैं।

भाजपा के तत्कालीन सांसद महेश गिरि और आरएसएस की छात्र इकाई अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) की शिकायत पर 11 फरवरी 2016 को वसंत कुंज (उत्तर) थाने में अज्ञात लोगों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 124ए और 120बी के तहत मामला दर्ज किया गया था।

भाकपा नेता डी. राजा की बेटी अपराजिता, शहला रशीद (तत्कालीन जेएनयूएसयू उपाध्यक्ष), रमा नागा, आशुतोष कुमार, बनोज्योत्सना लाहिड़ी (सभी जेएनयू के पूर्व छात्र) समेत 36 अन्य के नाम आरोपपत्र के 12वें कॉलम में हैं, क्योंकि उनके खिलाफ पर्याप्त सबूत नहीं हैं।

ये भी पढ़े – दशकों से ऐसा नहीं हुआ हैं, लेकिन क्या पिनाराई विजयन लगातार दूसरी जीत दर्ज कर इतिहास बनाएंगे

रिपोर्ट के अनुसार, दिल्ली सरकार द्वारा लंबे समय तक आरोपियों पर मुकदमा की मंजूरी नहीं दिए जाने के कारण मामले में देरी हुई।

सितंबर, 2019 की रिपोर्टों में कहा गया था कि दिल्ली सरकार युवा नेताओं पर मुकदमा चलाने की पुलिस को मंजूरी नहीं देगी। हालांकि, फरवरी, 2020 में आम आदमी पार्टी की सरकार ने अपना मन बदल दिया और मुकदमा चलाने की मंजुरी दे दी।

वहीं, इस दौरान कन्हैया कुमार ने छात्र राजनीति के बाद देश की राजनीति में कदम रखा और 2019 के लोकसभा चुनाव में बिहार के बेगुसराय से माकपा के टिकट पर चुनाव लड़ा।

वहीं, उमर खालिद दिल्ली दंगों संबंधी एक मामले में फिलहाल जेल में हैं और कई अधिकार संगठन लगातार उनकी रिहाई की मांग कर रहे हैं।

इस दौरान पुलिस के केस पर कई बार सवाल उठे खासकर तब जब यह साफ हो गया कि सबूतों के तौर पर पेश किए गए कुछ विडियो के साथ छेड़छाड़ की गई थी जिन्हें जेएनयू छात्रों के खिलाफ गुस्सा भड़काने के लिए कुछ टीवी चैनलों पर बड़ी संख्या में प्रसारित किया गया था।
वहीं, इस मामले में राजद्रोह का आरोप लगाने पर भी सवाल उठे थे. सुप्रीम कोर्ट ने कई बार कहा है कि राजद्रोह का मामला तभी बनता है जब ‘हिंसक तरीके से सरकार को पलटने की कोई साजिश का प्रमाण’ मिल जाए।

आपको बता दूँ कि पिछले साल दिल्ली विधानसभा चुनाव के दौरान एक रैली में गृह मंत्री अमित शाह ने कहा था कि अगर बीजेपी की सरकार बनती है तो एक घंटे के अंदर कन्हैया कुमार, उमर खालिद और शरजील इमाम के खिलाफ मुकदमा चलाने की मंजूरी दे दी जाएगी। साथ ही भाजपा ने यह आरोप भी लगाया था कि दिल्ली की केजरीवाल सरकार जानबूझ कर इस मामले को रोककर बैठी है।

ये भी पढ़े – दशकों से ऐसा नहीं हुआ हैं, लेकिन क्या पिनाराई विजयन लगातार दूसरी जीत दर्ज कर इतिहास बनाएंगे

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top