Hindi

Coronavirus : भारत में कोरोना संक्रमित मरीजों को भेजने की सूचना पर सतर्क हुईं खुफ‍िया एजेंसियां Gorakhpur News

गोरखपुर, जेएनएन। कोरोना का संक्रमण बढ़ाने के लिए नेपाल में घात लगाए 40-50 संक्रमितों के भारत में आने के फिराक में होने का खुफिया एजेंसियों से इनपुट मिलने के बाद गोरखपुर जोन से लगने वाली सीमा पर भी चौकसी बढ़ा दी गई है। एसएसबी के साथ तालमेल बिठाकर स्थानीय पुलिस सीमाई इलाके में नजर रख रही है। एक देश से दूसरे देश में आवाजाही रोकने के लिए पगडंडी रास्तों पर भी पहरा बिठा दिया गया है।

नेपाल से जुड़ती इन जिलों की सीमा

गोरखपुर जोन के छह जिलों कुशीनगर, महराजगंज, सिद्धार्थनगर, बहराइच, बलरामपुर और श्रावस्ती की करीब तीन सौ किलोमीटर सीमा नेपाल से लगती है। खुली सीमा की सुरक्षा की जिम्मेदारी एसएसबी पर है। स्थानीय पुलिस भी इस काम में एसएसबी की मदद करती है। वैसे तो दोनों देशों में आवाजाही के लिए कई अधिकृत रास्ते निर्धारित हैं, लेकिन कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने और लॉकडाउन लागू होने के बाद इन रास्तों को पूरी तरह से बंद कर दिया गया है। दोनों देशों के सीमाई इलाके के ग्रामीणों ने अपनी सुविधा के लिए पगडंडी रास्ते बना रखे हैं। इन रास्तों पर भी कड़ा पहरा बिठा दिया गया है।

सील है दोनो देशों की सीमा

एडीजी जोन दावा शेरपा ने बताया कि सीमा पर कड़ी चौकसी रखी जा रही है। किसी की भी आवाजाही संभव नहीं है। नेपाल पुलिस ने भी अपनी सीमा को पूरी तरह से सील कर रखा है। आवाजाही रोकने के लिए दोनों देशों के सीमाई जिलों के पुलिस अधिकारी एक-दूसरे के संपर्क में हैं। अनाधिकृत रूप से देश की सीमा में प्रवेश रोकने के लिए सीमाई क्षेत्र की पुलिस पूरी तरह से सक्रिय है। आबादी वाले इलाकों में नजर रखने के लिए पुलिस के साथ ही एलआइयू (स्थानीय अभिसूचना इकाई) की टीम को भी तैनात किया गया है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top