featured

राहुल गाँधी पर ऊँगली उठाकर बुरे फँसे झारखण्ड के वरिष्ठ नेता फुरकान अंसारी: कॉन्ग्रेस ने जारी किया शो कॉज नोटिस

बिहार चुनाव में महागठबंधन की हार के बाद कॉन्ग्रेस की आलोचना हो रही है। पार्टी नेतृत्व को लेकर कॉन्ग्रेस के भीतर चल रही आंतरिक दरार के बीच, झारखंड कॉन्ग्रेस ने गुरुवार को पार्टी के वरिष्ठ नेता फुरकान अंसारी को राहुल गाँधी और पार्टी के राज्य प्रभारी आरपीएन सिंह की आलोचना करने के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, पूर्व सांसद और झारखंड के एक प्रमुख मुस्लिम नेता अंसारी ने राहुल गाँधी से विधानसभा चुनाव के दौरान बिहार में चुनाव प्रचार के तरीके के बारे में सवाल किया था। पूर्व सांसद ने कहा था कि राहुल गाँधी के इर्द-गिर्द सभी एमबीए डिग्री धारी हैं। एमबीए योग्यता वाले मैनेजमेंट अच्छा कर सकते हैं, न कि राजनीतिक सलाह दे सकते है। उन्होंने कहा राहुल गाँधी को राजनीतिक सलाहकार रखने की जरूरत है।

बिहार के कहलगाँव में राहुल गाँधी द्वारा एक चुनावी रैली का उल्लेख करते हुए, अंसारी ने कहा था कि पूर्व पार्टी प्रमुख लोगों को प्रभावित करने में विफल रहे क्योंकि वे समझ नहीं पाए कि उन्हें क्या बोलना था।

“इसका परिणाम यह है कि वे उसे सही सलाह देने में सक्षम नहीं हैं और न ही चुनावी रैलियों के भाषणों के लिए महत्वपूर्ण बात रखने का सुझाव देते हैं। कॉन्ग्रेस को मजबूत करने के लिए, राहुल गाँधी के लिए राजनीतिक सलाहकार रखना जरूरी है।

अंसारी ने यह भी कहा कि वह कॉन्ग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी को पत्र लिखेंगे और पार्टी संगठन में बड़े बदलाव की माँग करेंगे।

उन्होंने आगे कहा, “मैं 1980 से कॉन्ग्रेस में रहा हूँ जब इन्दिरा गाँधी भारत की प्रधानमंत्री थी। मुझे यह साबित करने के लिए कोई प्रमाण पत्र की आवश्यकता नहीं है कि मैं कॉन्ग्रेसी हूँ। लेकिन आज पार्टी की इस हालत को देखकर मुझे दुख होता है।”

झारखंड में स्थानीय नेतृत्व और पार्टी प्रभारी आरपीएन सिंह पर हमला करते हुए फुरकान अंसारी ने कहा, “अगर यह मेरे ऊपर होता तो मैं आरपीएन सिंह को ब्लॉक अध्यक्ष भी नहीं नियुक्त करता।” बता दें अंसारी के बेटे इरफान जामताड़ा से मौजूदा विधायक हैं।

अंसारी के इस विरोध और कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ नेताओं को लेकर दिए गए बयान की वजह से कॉन्ग्रेस नेताओं ने उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की माँग की थी। वहीं कई नेताओं के अनुरोधों पर कार्रवाई करते हुए कॉन्ग्रेस पार्टी के झारखंड कार्यकारी अध्यक्ष कमलेश महतो ने राज्य इकाई के प्रमुख रामेश्वर उरांव की ओर से अंसारी को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। जिस पर अंसारी को सात दिनों के भीतर अपनी टिप्पणी देने को कहा गया है।

गौरतलब है कि फुरकान अंसारी द्वारा दिया गया बयान ऐसे समय में आया जब बिहार कॉन्ग्रेस अध्यक्ष मदन मोहन झा ने पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व की ओर से नुकसान की जिम्मेदारी लेने की पेशकश की थी। झा ने कहा कि वह अभी संपन्न विधानसभा चुनावों में पार्टी के खराब प्रदर्शन के लिए नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए पद को त्याग देंगे।

अखिल भारतीय कॉन्ग्रेस कमेटी (एआईसीसी) बिहार शक्तिसिंह गोहिल के साथ गुजरात प्रभारी राजीव सातव ने भी पार्टी के निराशाजनक प्रदर्शन के बाद अपने पद से हटने की पेशकश की है।

उल्लेखनीय है कि अंसारी के अलावा कॉन्ग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं ने बिहार चुनावों में पार्टी के प्रदर्शन पर निराशा व्यक्त की थी और पार्टी के नेतृत्व पर सवाल उठाए थे।

कपिल सिब्बल, पी चिदंबरम सहित कई वरिष्ठ नेताओं ने बिहार विधान सभा चुनावों में पार्टी के दृष्टिकोण की आलोचना की थी। राज्य में हो रहे विधानसभा चुनावों में हार के बाद से कॉन्ग्रेस के अधिक वफादार अब बागियों को बदल रहे हैं।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top