Hindi

विधायकों को जयपुर से शिफ्ट करने पर बोले अशोक गहलोत, उन्हें और उनके परिवारवालों को धमकाया जा रहा है

राजस्थान में जारी सियासी उठापटक के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने खेमे के कांग्रेस विधायकों को दूसरी जगह शिफ्ट करने पर कहा कि उनके ऊपर काफी दबाव था और इसलिए उन्हें जयपुर से दूसरी जगह भेजा जा रहा है। इसके साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेसी विधायकों को धमकाया जा रहा है और मानसिक दबाव बनाने की कोशिश की जा रही है।

गहलोत ने कहा, “जैसे ही परसों राज्यपाल महोदय का आदेश जारी हुआ, तुरंत उनके विधायकों के पास फोन आने शुरू हो गए। हमारे विधायकों को, उनके परिवारवालों को, उनके मिलनेवालों को धमकी भरे भी, दबाव से भी, मानसिक रूप से भी परेशान कर दिया विधायकों को… ऐसा माहौल बना दिया… कल मैंने कहा उनको… पहले वो 15 लाख 10 करोड़ की किस्त दें… उसके बाद में 15 करोड़ मिलेंगे बढ़ते-बढ़ते अब तो लिमिट ही खत्म हो गई, उनको पूछना पड़ता है कि आप बताओ क्या चाहते हैं आपलोग… इस मुल्क में ये हॉर्स ट्रेडिंग (खरीद-फरोख्त) हो रही है इस रूप में… हम सबकी पहली ड्यूटी है कि लोकतंत्र को बचाएं… हर नागरिक का कर्तव्य बनता है कि वो लोकतंत्र को बचाने के लिए आगे आए… ये मैं अपील करना चाहता हूं…. इसलिए हमारे विधायकों को भेजा गया.. काफी दिन से यहां बैठे हुए थे… इतना मानसिक रूप से प्रताड़ित हो रहे थे… तो हमने कहा चलो इन्हें शिफ्ट कर देते हैं… दबाव कम होगा वहां पर…।”

दूसरी ओर, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बसपा के छह विधायकों के कांग्रेस में विलय पर सवाल उठाने के लिए भाजपा पर निशाना साधा और कहा कि इससे भाजपा का दोहरा चेहरा सामने आ गया है। गहलोत ने सवाल किया है कि ”चाल-चरित्र-चेहरा कहां गया? गहलोत ने शुक्रवार को ट्वीट किया, ”भाजपा ने तेलुगु देशम पार्टी के चार सांसदों को राज्यसभा के अंदर रातों रात विलय करवा दिया। वह विलय तो सही है और राजस्थान में बसपा के छह विधायकों का कांग्रेस में विलय गलत है। तो फिर भाजपा का चाल-चरित्र-चेहरा कहां गया, मैं पूछना चाहता हूं? राज्यसभा में विलय हो वो सही है और यहां हो तो वह गलत है?”

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top