featured

मिशन बंगाल के लिए भाजपा ने कसी कमर- इन मंत्रियों को मिली बड़ी ज़िम्मेदारी

मंत्री

भाजपा सरकार ने बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए अपनी कमर कस ली है। इसी के साथ आपको बता दें कि गृह मंत्री अमित शाह के बंगाल दौरे से ठीक पहले भाजपा ने विधानसभा चुनाव के लिए अपनी रणनीति को अंतिम रूप दे दिया है।

इसी के तहत 8 केंद्रीय और राज्यों के मंत्रियों को बंगाल के अलग-अलग लोकसभा सीटों की जिम्मेदारी दी गई है। इसी के साथ आपको बता दें कि बंगाल राज्य में कुल 42 लोकसभा सीटें हैं, जिनमें से 18 सीटें पहले से ही भाजपा के पास है और 2021 में भाजपा ने 294 में से 200 सीटें जीतने का लक्ष्य साधा है।

आखिर किन मंत्रियों को यह जिम्मेदारी सौंपी गई है

भाजपा ने जिन मंत्रियों को जिम्मेदारी सौंपी है, उन मंत्रियों का नाम है-

  • संस्कृति राज्यमंत्री – प्रह्लाद पटेल,
  • जहाजरानी मंत्री  – मनसुख भाई मंडाविया,
  • पशुपालन राज्य मंत्री – संजीव बालियान,
  • केंद्रीय जल शक्ति मंत्री – गजेंद्र सिंह शेखावत,
  • आदिवासी मामलों के मंत्री – अर्जुन मुंडा,
  • उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री – केशव प्रसाद मौर्य,
  • गृह राज्य मंत्री- नित्यानंद राय,
  • मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्र शामिल है।

इसी के साथ आपको बता दें कि इन सभी मंत्रियों से यह भी कहा गया है कि चुनाव होने तक हर महीने 10 से 15 दिन अपनी जिम्मेदारी वाली लोकसभा सीटों पर बिताएं और वहां रहकर संगठन और को जमीनी स्तर पर मजबूत करें।

क्या है इन मंत्रियों का काम

इन भाजपा मंत्रियों का काम बंगाल राज्य के स्थानीय कार्यकर्ताओं से संपर्क करना, उन लोकसभा सीटों के तहत आने वाली विधानसभा सीटों के प्रमुख मुद्दों को रेखांकित करना तथा संभावित उम्मीदवारों की पड़ताल करना है। गृह मंत्री अमित शाह ने बंगाल दौरे में इन सभी मंत्रियों के साथ बैठक कर उनकी जिम्मेदारियों को तय किया। इन सभी मंत्रियों की प्रमुख जिम्मेदारी केंद्रीय पार्टी नेतृत्व के साथ समन्वय स्थापित करना भी है। यह सभी मंत्री अमित शाह, जेपी नड्डा और संगठन महासचिव बीएल संतोष को सीधे रिपोर्ट करेंगे।

इन सभी मंत्रियों को मिली इन लोकसभा क्षेत्रों की जिम्मेदारी

केंद्रीय पर्यटन राज्य मंत्री प्रह्लाद पटेल को सबसे अधिक 6 लोकसभा सीटों का प्रभार दिया गया है।

यह लोकसभा क्षेत्र हैं- कूचबिहार, अलीपुरद्वार, जलपाईगुड़ी, दार्जिलिंग, रायगंज और बालूरघाट।

बाकी मंत्रियों को 5-5 लोकसभा क्षेत्रों की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

गजेंद्र सिंह शेखावत को बनगांव, दमदम, बारसात, कोलकाता दक्षिण और कोलकाता उत्तर का दायित्व दिया गया है‌।

अर्जुन मुंडा आदिवासी बहुल झारग्राम, मेदिनीपुर, पुरलिया, बांकुरा और बिष्णुपुर के प्रभारी बनाए गए हैं।

संजीव बालियान को जंगीपुर, बहरामपुर, मुर्शिदाबाद, कृष्णानगर और रानाघाट की जिम्मेदारी दी गई है।

मनसुख भाई मंडाविया को मालदा उत्तर, मालदा दक्षिण, तमलुक, कांथी और घाटाल का दायित्व दिया गया।

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय को बैरकपुर, बशीरहाट, जयनगर, मथुरपुर और डायमंड हार्बर का प्रभारी बनाया गया है।

केशव प्रसाद मौर्य – हाव़ड़ा, उलबेरिया, श्रीरामपुर, हुगली और आरामबाग के प्रभारी होंगे।

नरोत्तम मिश्रा को बर्धमान पूर्व, बर्धमान दुर्गापुर, आसनसोल, बोलपुर और बीरभूम का प्रभारी बनाया गया है।

हालांकि, इन मंत्रियों को दी गई इस बड़ी जिम्मेदारी पर पार्टी के भीतर से सवाल भी उठे हैं . कुछ पार्टी नेताओं का मानना है कि अर्जुन मुंडा जैसे मंत्री को छोड़कर बाकी नेताओं के लिए बंगाल में काम करना आसान नहीं होगा क्योंकि वे वहां की राजनीति और स्थानीय समीकरणों से अभी तक परिचित नहीं है।

अर्जुन मुंडा बंगाल से सटी झारखंड की सीटों पर काम करते आए हैं। नेता यह भी कहते हैं कि मंत्रियों पर पहले ही काम का बहुत बोझ है। ऐसे में उनके लिए महीने में 10 से 15 दिन पश्चिम बंगाल के लिए निकालने में परेशानी हो।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top