Bihar

Bihar Election 2020: 53 वर्षों से यदुवंशियों का मजबूत किला बना राघोपुर, लालू परिवार की इस सीट पर जोर आजमा रहे तेजस्‍वी

Bihar Assembly Election 2020 बिहार के राघोपुर विधानसभा क्षेत्र से लालू परिवार के सदस्‍य जोकर आजमाते रहे हैं। खुद लालू भी यहां से विधायक रहे हैं। इस बार भी यहां के सीटिंग विधायक व लालू के बेटे तेजस्‍वी यादव मैदान में हैं।

राघोपुर विधानसभा सीट पर पिछले 53 वर्षों से यदुवंशी ही विधायक बन रहे हैं। लहर कांग्रेस की रही हो या जयप्रकाश नारायाण की, यदुवंशियों पर ही वोटरों ने भरोसा जताया। दल भले ही बदले मगर उनकी जाति नहीं बदली। खास बात यह कि अधिकतर चुनावों में मुख्य मुकाबला भी यदुवंशियों के बीच ही हुआ है। अगर कभी किसी प्रमुख दल ने दूसरे को उम्मीदवार बनाया तो इलाके ने उसे नकार दिया है। राघोपुर राष्‍ट्रीय जनता दल सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के परिवार की परंपरागत सीट रही है। इस बार यहां से लालू के बेटे तेजस्‍वी यादव जोर आजमा रहे हैं।

दो दशक तक लालू-राबड़ी एवं तेजस्वी ने किया प्रतिनिधित्व

राघोपुर विधानसभा सीट 1995 के चुनाव में तब चर्चा में आई जब तत्कालीन मुख्यमंत्री के तौर पर लालू प्रसाद ने यहां से चुनाव लड़ा। राघोपुर के विधानसभा चुनाव के इतिहास में लालू यहां सर्वाधिक मतों से चुनाव जीते थे। वे 2000 तक यहां से विधायक रहे। इसके बाद बीच में हुए उपचुनाव में यहां से राजगीर चौधरी राजद से जीते। फरवरी एवं अक्टूबर 2005 के चुनाव में राबड़ी देवी यहां से विधायक चुनीं गई। 2010 तक राबड़ी ने इलाके का प्रतिनिधित्व किया। 2010 के चुनाव में सतीश कुमार राय ने राबड़ी देवी को पराजित कर दिया था। फिर 2015 के चुनाव में लालूराबड़ी के छोटे बेटे तेजस्वी ने सतीश को पराजित कर अपनी पुश्तैनी सीट वापस ले ली।

इस बार भी दोनो प्रमुख गठबंधनों के उम्‍मीदवार यदुवंशी

2015 के चुनाव में तेजस्वी का मुकाबला सतीश से, 2010 में सतीश का मुकाबला राबड़ी से, 2005 अक्टूबर में राबड़ी का मुकाबला सतीश से, फरवरी 2005 के चुनाव में राबड़ी का मुकाबला राजीव रंजन से, 2000 एवं 1995 में लालू का मुकाबला विशुनदेव राय से हुआ। इस बार भी दोनो प्रमुख गठबंधनों ने यहां से यदुवंशी को ही उम्मीदवार बनाया है।

हरविंश नारायण सिंह ने तोड़ी परिपाटी

राघोपुर सीट से एकमात्र गैर यदुवंशी विधायक हरिवंश नारायण सिंह ही रहे हैं। उन्होंने 1952 और 1957 के चुनाव में कांग्रेस से जबकि 1967 के चुनाव में जनसंघ के टिकट पर जीत दर्ज की।

इलाके में नहीं खिला है कमल

राघोपुर में विधानसभा चुनाव के इतिहास में आज तक कमल नहीं खिल सका है। यहां से 2015 के चुनाव में भाजपा की ओर से सतीश खड़े हुए थे पर हार का सामना करना पड़ा। इस बार के चुनाव में भी तेजस्वी के मुकाबले सतीश ही चुनावी मैदान में हैं। हां, भारतीय जनसंघ की ओर से एक बार यहां से 1967 में हरिवंश नारायण सिंह ने चुनाव जरूर जीता था।

राघोपुर से 13 टर्म रहे यदुवंशी विधायक

वर्ष दल चुनाव जीते

1962 एसओसी देवेंद्र सिंह

1969 कांग्रेस रामवृक्ष राय

1972 एसओपी बाबूलाल शास्त्री

1977 जनता पार्टी बाबूलाल शास्त्री

1980 जनता पार्टी सो. उदय नारायण राय

1985 लोकदल उदय नारायण राय

1990 जनता दल उदय नारायण राय

1995 जनता दल उदय नारायण राय

2000 राजद लालू प्रसाद

2005 फरवरी राजद राबड़ी देवी

2005 अक्टूबर राजद राबड़ी देवी

2010 जदयू सतीश कुमार

2015 राजद तेजस्वी प्रसाद यादव

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top