Bihar

ये आंकड़े बता रहे हैं तेजस्वी यादव को असली बाजीगर, हारकर भी हैं सबसे आगे…

बिहार विधानसभा चुनाव का नतीजा संक्षेप में तो यही है कि नीतीश कुमार की अगुआई में एनडीए को बहुमत मिला है और महागठबंधन सत्ता से दूर रह गया। लेकिन नतीजों के आंकड़ों को खंगालने पर कई दिलचस्प बातें सामने आ रही हैं। तेजस्वी यादव अपनी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) को भले ही सत्ता तक नहीं पहुंचा पाए, लेकिन उन्होंने वोटों और सीटों के मामले में बीजेपी को पटखनी जरूर दी है। 2015 विधानसभा चुनाव के आंकड़ों से तुलना करने पर और भी रोचक तथ्य मिलते हैं।

तीन चरणों में 243 सीटों पर हुए चुनाव में एनडीए को 125 सीटें हासिल हुईं तो महागठबंधन ने 110 सीटों के साथ कड़ी टक्कर दी। एनडीए के सहयोगी दलों की बात करें तो बीजेपी को 74, जेडीयू को 43, वीआईपी और हम को 4-4 सीटें मिली हैं। सबसे बड़ी पार्टी आरजेडी है, जिसे 75 सीटें मिली हैं। कांग्रेस को 19 और वाम दलों को कुल 16 सीटें मिली हैं।

किस पार्टी को कितने वोट
वोट शेयर की बात करें तो सबसे अधिक 23.1 फीसदी मत आरजेडी को मिले हैं। कुल 97 लाख 36 हजार 242 लोगों ने ईवीएम में लालटेन के सामने का बटन दबाया। वहीं, इस मामले में बीजेपी दूसरे नंबर पर है जिसे 19.46 फीसदी लोगों ने वोट दिया यानी 82 लाख 1 हजार 408 वोटर्स ने कमल का बटन दबाया। सातवीं बार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे नीतीश कुमार की पार्टी को 15.4 फीसदी यानी 64 लाख 84 हजार 414 लोगों ने वोट दिया। कांग्रेस को 9.5 पीसदी मतदाताओं यानी 39 लाख 95 हजार 3 वोटर्स ने वोट दिया। एलजेपी 5.66 फीसदी (23 लाख 83 हजार 457) वोटों के साथ 1 सीट पर ही जीत दर्ज कर पाई वहीं एआईएमआईएम 1.24 फीसदी यानी 5 लाख 23 हजार 279 वोट लेकर 5 सीटें जीत गई। अन्य के खातों में 18.8 फीसदी वोट गए हैं।

2015 में किसे कितना वोट मिला
पिछले विधानसभा चुनाव के आकंड़ों पर नजर डालें तो तीसरे नंबर पर रही बीजेपी वोटशेयर के मामले में सबसे आगे थी। उस चुनाव में बीजेपी को सीटें तो महज 53 मिली थीं, लेकिन उसे 24.42 फीसदी यानी 93 लाख 08 हजार 15 मतदाताओं ने पसंद किया था। वहीं, आरजेडी को 18.35 फीसदी वोट मिले थे। कुल 69 लाख 95 हजार 509 लोगों ने वोट दिया था। इसके अलावा जेडीयू को 16.83 फीसदी और कांग्रेस को 6.66 फीसदी वोट मिले थे। तब निर्दलीयों के खातों में 9.39 फीसदी वोट गए थे।

किसे कितना फायदा-किसे कितना नुकसान

दोनों चुनावों की तुलना करें तो आरजेडी वोटशेयर के मामले में काफी फायदे में रही है और उसे पिछली बार से 4.75 फीसदी यानी 27 लाख 40 हजार 733 वोट ज्यादा मिले। वहीं, बीजेपी ने 2015 के मुकाबले 21 सीटें अधिक हासिल की हैं, लेकिन वोटशेयर के मामले में उसे नुकसान हुआ है। बीजेपी को इस बार 11 लाख 06 हजार 607 कम वोट मिले हैं। वोट शेयर और सीटों के मामले में जेडीयू काफी नुकसान हुआ है। 2015 के मुकाबले उसे 28 कम सीटें मिली हैं तो वोट शेयर भी कम हुआ है। वहीं, कांग्रेस का वोट शेयर काफी बढ़ा पर उसे भी सीटों के मामले में नुकसान हुआ है। पिछली बार कांग्रेस को 27 सीटें मिली थी, जबिक इस बार उसके 19 प्रत्याशी ही जीत सके।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top