India

बालाकोट स्ट्राइक: 300 आतंकियों वाली मौत की खबर झूठी, फुटबॉल मैदान में गिराया गया था बम

बालाकोट स्ट्राइक

बालाकोट स्ट्राइक पर फिर से एक चौंकाने वाली खबर आई है। पाकिस्तानी राजनयिक जफर हिलाली ने 2019 बालाकोट एयरस्ट्राइक में 300 मौतों को स्वीकार किया था। पूर्व राजनयिक की ओर से 300 आतंकियों के मारे जाने की बात को स्वीकार किए जाने की खबर को फैक्ट-चेक वेबसाइट Alt News ने गलत बताया है। फैक्ट-चेक में बताया गया है कि जिस वीडियो क्लिप के आधार पर यह खबर बनाई गई है, उससे छेड़छाड़ किया गया है।

एएनआईए ने अपने एक आर्टिकल में लिखा, ‘पूर्व पाक राजनयिक जफर हिलाली ने स्वीकार किया है कि 26 फरवरी 2019 को भारत द्वारा बालाकोट में एयरस्ट्राइक किए जाने से 300 मौतें हुई थीं।’

खास बात ये है कि एएनआई की इसी रिपोर्ट को सभी मुख्यधारा के कई मीडिया चैनलों द्वारा चलाया गया।

न्यूज चैनल पर उपलब्ध पूरे वीडियो को देखने से पता चलता है कि हिलाली भारत द्वारा 300 लोगों को मारने के मकसद की आलोचना कर रहे थे और दावा किया कि भारत ऐसा कर पाने में असमर्थ रहा।

उन्होंने कहा कि भारत ने एक फुटबॉल मैदान पर बम विस्फोट कर झूठा दावा किया कि उन्होंने स्ट्राइक में 300 पाकिस्तानियों को मार गिराया है।

इसके साथ ही हिलाली ने भारत के दावों को स्वीकार करने और अपने क्षेत्र पर भारत की कार्रवाई के जवाब में खराब प्रतिक्रिया देने के लिए पाकिस्तानी सरकार को भी लताड़ा।

भारत द्वारा ईजाद किए गए ‘सर्जिकल स्ट्राइक या एयर स्ट्राइक’ जैसे शब्दों को पाकिस्तान में इस्तेमाल के सवाल पर हिलाली ने कहा, ‘ऐसे शब्दों का हमें बिल्कुल इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। सर्जिकल स्ट्राइक यानी कि लिमिटेड टारगेट। लिमिटेड क्यों? आपका (भारत) मकसद ये था कि एक मदरसा, जहां आपके अनुसार 300 बच्चे पढ़ रहे थे, उधर आकर आपको स्ट्राइक करना था। इसका मतलब आपने 300 लोगों को मारने का इरादा रखा था। वो थे नहीं, वो गलत था, वो हुआ नहीं, तो इसलिए आपने एक फुटबॉल फील्ड में जाकर बम फेंक दिया। भारत ने जो किया वो जंग के लिए हमला था।’

पूर्व पाकिस्तानी राजनयिक ने भारत के बालाकोट एयरस्ट्राइक में 300 मौत होने की बात स्वीकारी है।

जफर हिलाली ने भी अपने ट्विटर पर वास्तविक वीडियो ट्वीट कर स्पष्टीकरण दिया और कहा कि भारत में जो वीडियो प्रसारित किया जा रहा है वो सही नहीं है।

हिलाली ने कहा कि उन्होंने बालाकोट को लेकर ऐसी कोई टिप्पणी नहीं की है। ऐसी झूठी खबर चलाने को लेकर उन्होंने टाइम्स ऑफ इंडिया की आलोचना भी की।

मालूम हो कि बीते 14 फरवरी 2019 को जम्मू कश्मीर के पुलवामा ज़िले में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आत्मघाती हमले में 40 जवानों की मौत हो गई थी। इसके बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया था।

इसके बाद 26 फरवरी 2019 को भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में एयरस्ट्राइक की थी। भारत का दावा है कि इस एयरस्ट्राइक में सैकड़ों आतंकवादियों की मौत हुई थी, हालांकि पाकिस्तान ने मौतों की संख्या को सिरे से खारिज किया गया है।

Sachin Sarthak

ये भी पढे: गोडसे की ज्ञानशाला में आपका स्वागत है

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top