featured

एबीपी सर्वे: बंगाल में बनी रहेगी ममता

एबीपी

एबीपी-सी वोटर सर्वे के मुताबिक मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सबसे पसंदीदा मुख्यमंत्री उम्मीदवार के तौर पर उभरी हैं। राज्य के 52% लोग चाहते हैं कि ममता बनर्जी एक बार फिर सीएम बने। इस सर्वे के तहत टेलीफोन से 7527 लोगों से बात कर उनकी राय पूछी गई है। दीदी के अलावा बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष दूसरा और बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली सीएम पद के लिए तीसरा सबसे पसंदीदा चेहरा बनकर उभरे हैं। घोष को 25 और गांगुली को 4% लोगो सीएम के रूप में देखना चाहते हैं।

इसके अलावा सर्वे में 40% लोग दीदी के गुस्से में बदलाव चाहते हैं। राज्य के 50 फीसदी लोग ममता के काम से खुश हैं। वहीं 32% लोगों का कहना है कि दीदी का काम अच्छा नहीं था। सर्वे में 17% लोगों ने उनके काम को औसत बताया।

ये भी पढ़े – इतने अहम क्यों हैं, ‘सुवेंदु अधिकारी’ क्या अकेले बीजेपी को दिला सकेंगे जीत?

वहीं एबीपी न्यूज़ के लिए CNX सर्वे के मुताबिक टीएमसी को इस चुनाव में 151 सीटें मिल सकती है। वहीं बीजेपी 117 सीट मिल सकती है। कांग्रेस-लेफ्ट गठबंधन को 24 सीटों से संतोष करना पड़ सकता है। अन्य के खाते में दो सीटें जा सकती है। बता दें 2016 के विधानसभा चुनाव में टीएमसी को 211, कांग्रेस लेफ्ट को 76, बीजेपी को तीन और अन्य को दो सीटें मिली थी।
चुनाव से पहले ममता मोदी सरकार पर लगातार हमला बोलते दिखाई दे रही हैं। सोमवार को दीदी ने 22 साल की क्लाइमेट एक्टिविस्ट दिशा रवि की टूल किट केस में गिरफ्तारी को लेकर केंद्र सरकार पर जोरदार हमला बोला है। ममता ने कहा कि कार्रवाई तो बीजेपी की आईटी सेल पर होनी चाहिए जो देश भर में झूठ फैलाने का काम करती है।

ये भी पढ़े – किसान आंदोलन और अन्ना आंदोलन में क्या है अंतर , क्या इससे यूपीए को लाभ मिलेगा

ममता बनर्जी ने एक प्रेस कान्फ्रेंस में कहा कि सरकारी नीतियों का विरोध करने वाले किसी शख्स की गिरफ्तारी करना क्या उचित है। बीजेपी को चाहिए कि वह सबसे पहले अपनी आईटी सेल के खिलाफ शिकंजा कसे जो झूठ फैलाने के काम में जुटी है। ये दोहरा मानदंड क्यों अपनाया जा रहा है।

बंगाल की मुख्यमंत्री ने कहा कि बीजेपी की आईटी सेल के सदस्य तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ता होने का ढोंगकर लोगों को फोन कर रहे हैं और उनकी पार्टी की छवि खराब कर रहे हैं। इस पर उन्होंने कोलकाता पुलिस से ध्यान देने को कहा है।

ये भी पढ़े –इतने अहम क्यों हैं, ‘सुवेंदु अधिकारी’ क्या अकेले बीजेपी को दिला सकेंगे जीत?

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top