featured

बंगाल में एक मुस्लिम परिवार जो बंट गया दो बराबर हिस्सों में, आधे बीजेपी तो आधे…

कोरोना महामारी के बीच पश्चिम बंगाल में चुनावी संग्राम मचा हुआ है। राजनितिक पंडित बीजेपी और टीएमसी के बीच कड़ी टक्कर की बात कर रहें तो वहीँ कांग्रेस-वाम मोर्चा गठबंधन को भी एक नई ताकत के रूप में देख रहे हैं। इसी कड़ी में पश्चिम बंगाल की गोआलपोखर विधानसभा सीट पर दो मुस्लिम भाईयों के चुनाव लड़ने की खबर इस समय सुर्खियां बटोर रही हैं।

एक भाई तृणमूल से तो दूसरे भाजपा से। तृणमूल के उम्मीदवार गुलाम रब्बानी गोआलपोखर के मौजूदा विधायक हैं और ममता सरकार में श्रम मंत्री हैं। वे इस सीट पर दो बार चुनाव जीत चुके हैं। तीसरी जीत के लिए फिर मैदान में हैं। मंत्री गुलाम रब्बानी को चुनौती दे रहे हैं उनके छोटे भाई गुलाम सरवर हुसैन। वे पिछले साल ही भाजपा में शामिल हुए थे। एक साल बाद ही भाजपा ने उन्हें चुनावी मैदान में उतार दिया। अब सीट पर दो सहोदर भाई अनोखी चुनावी लड़ाई लड़ रहे हैं।

चुनावी जंग ने मंत्री गुलाम रब्बानी के परिवार को एक तरह से दलीय आधार पर बांट दिया है। वे पांच भाई हैं। बड़े भाई गुलाम यजदानी राजनीति से दूर हैं। चार में एक भाई गुलाम हैदर भाजपा के पक्ष में गुलाम सरवर हुसैन के लिए वोट मांग रहे हैं। एक अन्य भाई गुलाम रसूल तृणमूल के पक्ष में मंत्री गुलाम रब्बानी के लिए वोट मांग रहे हैं। गुलाम रसूल तृणमूल के प्रखंड अध्यक्ष भी हैं। यानी इस मुस्लिम परिवार में दो भाई भाजपा की तरफ हैं तो दो तृणमूल के पक्ष में।

बता दें कि दोनों भाई अपनी अपनी जीत का दावा कर रहे है। दोनों भाई कह रहे है कि हमें मुसलमानों ही नहीं सारे जाति धर्मों का समर्थन मिल रहा हैं। अब किसके दावे में कितना दम है, ये 2 मई को ही पता चलेगा।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WHATS HOT

Most Popular

To Top